3.90 लाख किसानो के खातो में कृषि आदान-अनुदान के 387 करोड़ हस्तांतरित

पहली मर्तबा जिस संवत में खराबा हुआ उसी संवत में काश्तकारो के खातो में हस्तांतरित हुई राशि

0
170
demo pic

बाड़मेर।

बाड़मेर जिले में 3 लाख 90 हजार 590 किसानो के खातो में कृषि आदान-अनुदान के 387 करोड़ 40 लाख 54 हजार रूपए जमा करा दिए गए है। पहली मर्तबा जिस संवत में खराबा हुआ है उसी संवत में अनुदान की राशि किसानो के खातो में हस्तातंरित की गई है।

जिला कलक्टर हिमांशु गुप्ता ने बताया कि बाड़मेर जिले में 75 से 100 फीसदी खराबे वाली 13 तहसीलो  के 1 लाख 19 हजार 827 काश्तकारो के खातो में 66 करोड़ 35 लाख एवं 1 लाख 96 हजार 216 अन्य किसानो के खातो में  252.47 करोड़ रूपए कृषि आदान-अनुदान के रूप में हस्तांतरित किए गए है। उन्होंने बताया कि 50 से 75 फीसदी खराबे वाली 11 तहसीलो के 26182 लघु सीमांत काश्तकारो के खातो में 11 करोड़ 75 लाख एवं 10 तहसीलो के 46 हजार 69 किसानो के खातो में 55 करोड़ 70 लाख रूपए हस्तांतरित किए गए है।

जिला कलक्टर गुप्ता ने बताया कि 33 से 50 फीसदी खराबे वाली 4 तहसीलो के 2296 काश्तकारो के खातों में 1 करोड़ 14 लाख रूपए हस्तांतरित किए गए है। उल्लेखनीय है कि अभाव संवत 2075 के दौरान खरीफ फसल में खराबा होने पर आपदा प्रबंधन एवं सहायता विभाग ने बाड़मेर जिले के 2694 राजस्व गांवो को गंभीर एवं 47 राजस्व गांवो को मध्यम सूखाग्रस्त घोषित किया था।

जिला प्रशासन ने किसानों को त्वरित राहत देने के लिए प्राथमिकता से प्रभावित किसानो की सूचियां तैयार करवाकर राज्य सरकार को भिजवाई थी। जहां से कृषि आदान-अनुदान की राशि प्राप्त होते ही तत्काल किसानो के खातो में हस्तातंरित की गई है।

यह भी पढ़े …

कलक्टर की रामसर का कुंआ में रात्रि चौपाल कल 
जिला कलक्टर हिमांशु गुप्ता मंगलवार को रामसर का कुंआ ग्राम पंचायत मुख्यालय पर आयोजित रात्रि चौपाल के दौरान आमजन की परिवेदनाएं सुनेंगे। इस दौरान आमजन की समस्याआंे के त्वरित निस्तारण के लिए संबंधित विभागीय अधिकारियो को उपस्थित होने के निर्देश दिए गए हैं।
जिला कलक्टर हिमांशु गुप्ता ने बताया कि 12 फरवरी को बाड़मेर आगोर कलस्टर की रामसर का कुंआ ग्राम पंचायत मुख्यालय पर रात्रि चौपाल का आयोजन किया जाएगा। रात्रि चौपाल के दौरान ग्रामीणांे की समस्याआंे एवं अभियोगांे को मौके पर ही निपटाने के लिए ग्रामीण विकास विभाग, जन स्वास्थ्य अभियांत्रिकी विभाग, डिस्काम, चिकित्सा एवं स्वास्थ्य विभाग, सार्वजनिक निर्माण विभाग, पशु पालन, कृषि विभाग, शिक्षा, सामाजिक न्याय एवं अधिकारिता विभाग, रसद विभाग के साथ संबंधित उपखंड अधिकारी, तहसीलदार, नायब तहसीलदार, विकास अधिकारी एवं भू अभिलेख निरीक्षक, पटवारी एवं ग्रामसेवकांे को आवश्यक रूप से उपस्थित होने के निर्देश दिए गए हैं। उन्हांेने बताया कि रात्रि चौपाल मंे प्रत्येक ग्रामवार समस्याआंे पर चर्चा की जाएगी। चौपाल की समाप्ति पर खुली चौपाल मंे जन सुनवाई आयोजित होगी।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here