कन्या भ्रुण हत्या के विरोध में नाटिका का हुआ मंचन

जैन समाज की बालिकाओं ने दिया कन्या भ्र्रुण हत्या रोकने का संदेश, आमजन ने लिया कन्या भु्रण हत्या रोकने का संकल्प,

0
284

बाड़मेर

स्थानीय जैन न्याति नोहरे में चल रहे मंगलमय वर्षावास 2018 में रविवार को श्री खरतरगच्छ जैनश्री संघ जैन न्याति नोहरा एवं अणुव्रत समिति, बाड़मेर के संयुक्त तत्वावधान में रविवार को प्रातः में जैन न्याति नोहरे के विशाल व भव्य प्रांगण में कन्या भ्रुण हत्या के विरोध में जैन समाज की बालिकाओं द्वारा मार्मिक व संदेशपरक ‘‘कन्या भ्रुण हत्या रोको’’ एक प्रेरक नाटिका का मंचन किया गया । अणुव्रत समिति के संगठन मंत्री मुकेश बोहरा अमन ने बताया कि कन्या भ्रुण हत्या के विरोध में जैन सामज की बालिकाओं द्वारा मंचित ‘‘कन्या भ्रुण हत्या रोको’’ नाटिका का गरिमामय कार्यक्रम परम पूज्य मुनिराज श्री देवेन्द्रकुमार जी म.सा. आदि ठाणा-2 एवं गुरूमैया, ममतामूर्ति परम पूज्य साध्वी श्री सुरंजनाश्री जी म.सा. आदि ठाणा-6 की पावन निश्रा में आयोजित हुआ ।

चन्द्रप्रकाश छाजेड़ ने बताया कि कन्या भ्रुण हत्या विरोध में आयोजित नाटिका मंचन कार्यक्रम में कन्या भु्रण हत्या के विरोध में आमजन को जागृत करते हुए जैन समाज की बालिकाओं ने बेहतरीन व प्रेरणास्पद नाटक का मंचन किया । जहां सभी कलाकारों ने एक से बढ़कर एक प्रस्तुति देते हुए कन्या भु्रण हत्या रोकने का आह्वान किया । नाटिका में सास बनी पूरी देवी छाजेड़ व बहु बनी हर्षा जैन ने नाटिका को जीवन्त करते हुए उपस्थित धर्मप्रेमी बन्धुओं व माताओं-बहिनों को कन्या भु्रण हत्या रोक पर सोचने के लिए विवश कर दिया । वहीं नाटिका में जैन गीतकार गौरव मालू , मनीषा छाजेड़ व रक्षिता छाजेड़ ने नारी से जुड़े मां, बेटी आदि रिश्तों पर बेहतरीन गीतों की प्रस्तुतियां दी ।

कार्यक्रम में मुनिराज देवेन्द्रकुमार म.सा. ने कहा कि अहिंसा जैन धर्म का मुलमंत्र है । और यही अहिंसा भगवान महावीर के जीवन और संदेशों का सार है । मुनिराज ने कहा कि हमें छोटे-छोटे अणुव्रतों का पालन करते हुए जीओ और जीने दो के संदेश को प्राणीमात्र तक पहुंचाना है। साध्वीश्री सुरंजनाश्री ने कहा कि कन्या भ्रुण हत्या समाज के लिए सबसे बड़ा अभिशाप एवं अमानवीय कृत्य है । जो सदियों से सम्पूर्ण मानव समाज को कलंकित करता आ रहा है। ऐसे में माताओं-बहिनों को जागृत होते हुए आगे आने होगा तथा लड़का-लड़की में भेदभाव की अमानवीय प्रवृति को खत्म करना होगा । मातृ-शाक्ति की जागृति से ही कन्या भु्रण हत्या जैसा महापाप जड़ से समाप्त हो सकता है ।

इसी कड़ी में श्री खरतरगच्छ जैनश्री संघ व अणुव्रत समिति, बाड़मेर की ओर से नाटक मंचन के कलाकारों को पारितोषिक प्रदान कर सम्मानित किया गया। और तेरापंथ धर्मसभा, बाड़मेर व अणुव्रत समिति, बाड़मेर की ओर से श्री खरतरगच्छ जैनश्री संघ को अणुव्रत नियमांे की तस्वीर भेंट की गई। कार्यक्रम के अंत में अणुव्रत समिति, बाड़मेर के अध्यक्ष प्रदीप पगारिया व खरतरगच्छ जैनश्री संघ की ओर से वीरचवंद भंसाली ने आभार व्यक्त किया। इस दौरान अणुव्रत समिति, बाड़मेर के अध्यक्ष डाॅ. प्रदीप पगारिया, तेरापंथ धर्मसभा के अध्यक्ष जवेरीलाल चैपड़ा, वरिष्ठ अधिवक्ता जेठमल जैन, रिखबदास मालू, एड़वोकेट सम्पतराज बोथरा, ओमप्रकाश बोथरा, प्रकाशचन्द संखलेचा, कैलाश मेहता एड़वोकेट मुकेश जैन, वीरचन्द भंसाली, कल्पेश मालू, अशोक भूणिया, मनोज छाजेड़, संजय छाजेड़ सहित बड़ी संख्या में जैन समाज के गणमान्य नागरिक एवं माताएं-बहिनें उपस्थित रही।

भगवान नेमीनाथ का भव्य जन्म कल्याणक महोत्सव  15 अगस्त को

खरतरगच्छ संघ चातुर्मास समिति बाड़मेर के मिडिया प्रभारी चन्द्रप्रकाष बी. छाजेड़ ने बताया कि गुरूवर्या श्री की निश्रा में 15 अगस्त को प्रातः 9 बजे सुखसागर सत्संग सभा जैन न्याति नोहरा में भगवान नेमीनाथ के जन्मकल्याणक के उपलक्ष में भव्य महोत्सव का आयोजन किया गया है जिसमें राजदरबार, जन्म उत्सव आदि का पात्रों के माध्यम से मंचन किया जायेगा जिसको लेकर तैयारियां जोर-षोर से चल रही है। रविवार को गुरूवर्या श्री के दर्षनार्थ जैन श्रीसंघ रामसर एवं झिझनियाली से गुरू भक्त पधारे जिनका खरतरगच्छ संघ द्वारा बहुमान किया गया। संघपूजन का लाभ ओमप्रकाष माणकमल धारीवाल परिवार ने लिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here