स्‍वाभिमान का साथ दिया तो सरकार बाड़मेर-जैसलमेर को भूल गयी : चित्रासिंह

0
179

बाड़मेर।

पूर्व केन्‍द्रीय मंत्री जसवंतसिंह की पुत्रवधु चित्रासिंह ने जिले के विभिन्‍न इलाकों का दौरा कर स्‍वाभिमान रैली में आने के लिए लोगों को न्‍यौता दिया। चित्रासिंह ने कहा कि बाड़मेर जैसलमेर के लोग स्‍वाभिमान है और 2014 के चुनावों में भी यहां के लोगों ने स्‍वाभिमान का साथ दिया था। उन्‍होनें कहा कि जब पिछले चुनावों में यहां के लोगों ने स्‍वाभिमान का साथ देकर, जसवंतसिंह का साथ दिया था, तो सरकार इस इलाके को भूल गयी। उन्‍होनें कहा कि उन्‍हें इस बात का गर्व है कि यहां के लोग आज भी स्‍वाभिमान के साथ मजबूती से खड़े है।

चित्रासिंह ने कहा कि 22 सितम्‍बर की रैली उनके परिवार या किसी एक जाति की रैली नहीं है। चित्रासिंह ने कहा कि यह 36 कौम के स्‍वाभिमानी लोगों की रैली है। उन्‍होनें कहा कि जिस सरकार ने पिछली बार सुराज का सपना दिखाया, लेकिन स्‍वाभिमान के साथ खड़े होने पर उनसे प्रतिशोध लिया, अब वक्‍त आ गया है कि ऐसी सरकार को सबक सिखाया जाए। उन्‍होनें कहा कि 22 सितम्‍बर को अधिक से अधिक संख्‍या में पचपदरा आकर हमारा शोषण करने वालों, हमारे स्‍वाभिमान को ठेस पहुंचानें वालों को एक कड़ा संदेश देना है। उन्‍होनें कहा कि 22 तारीख को हमारी सफल होगी, तो ऊपर बैठे नेताओं की कुर्सी हिल जाएगी। चित्रासिंह ने कहा कि यह अपनी ताकत दिखाने का समय है और अपनी ताकत दिखाने के लिए जरूरी है कि सारे स्‍वाभिमानी लोग अधिक से अधिक संख्‍या में 22 तारीख को पचपदरा पहुंचे।

चित्रासिंह ने कहा कि 22 सिंतबर को जनता जो भी निणर्य करेगी, वो उन्‍हें मंजूर है। उन्‍होनें कहा कि बाड़मेर जैसलमेर की जनता ही फैसला लेगी कि उन्‍हें राजनीति करनी है या नही करनी है। चित्रासिंह  ने कहा कि लोग कहते है आप पिछला चुनाव हार गए, लेकिन मैं उन्‍हें कहती हूं कि चुनाव हारे तो क्‍या हुआ, हमने लोगों का मन जीत लिया। लोगों ने दिल से हमारा साथ दिया था और यही सबसे बड़ी जीत है।

चित्रासिंह ने मंगलवार को सेड़वा, गंगासरा, कारटिया, गौड़ा, फागलियाख्‍ बोली और बामरला गांवों का दौरा कर लोगों को स्‍वाभिमान रैली में आनें का न्‍यौता दिया।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here