तारातरा नगरी में उमड़ा साधु संतों,भक्तों का जनसैलाब, मायरा कथा में झूम उठे श्रोता

जैसलमेर के भक्तों ने भेंट की फॉर्च्यूनर गाड़ी

0
3591

बाड़मेर।

तारातरा के ब्रह्मलीन महंत मोहनपुरी महाराज के भंडारे के निमित 5 दिवसीय कार्यक्रम के दूसरे दिन दूर-दूर से भक्त तारातरा पहुंचे। जहां पहुंच श्रद्धालुओं ने मोहनपुरी महाराज के धूने के दर्शनों का लाभ लिया।साथ ही भंडारे में बड़ी संख्या में साधु संतों का आगमन हुआ। वहीं जिले के विभिन्न परगनो से पहुंचे राजपरिवार के लोगो ने मोहनपुरी जी महाराज के धुनें के दर्शन किये। वहीँ साधु- संतो, राजनीतिक हस्तियों के पहुँचने का सिलसिला अनवरत जारी है। वहीँ गुरूवार को हजारो की संख्या में नागा बाबा तारातरा मठ में आएंगे। हजारो की संख्या में देश भर से साधु महात्मा शरीक होंगे।

इस आयोजन के मीडिया प्रवक्ता दुर्गसिंह राजपुरोहित ने बताया कि दूसरे दिन आयोजित नैनी बाई के मायरा कथावाचन में भक्तों की भीड़ उमड़ पड़ी। राजस्थान के प्रसिद्ध कथावाचक पंडित ज्वालाप्रसाद द्वारा मायड़ (राजस्थानी) भाषा मे मायरे कथा में वाचन करते हुए कहा कि नरसी जी गरीब ब्राह्मण थे। मायरा भरना नामुमकिन था। उलटे मायरे में उच्च कुलीन वर्ग के लोगों के स्थान पर 15-16 वैष्णव भक्तों की टोली के साथ अंजार नगर पहुच गए थे, जो उनकी बेटी का ससुराल था।
उनकी आर्थिक दृष्टि कमजोर होने के चलते उनके तरह-तरह के अपमान किये गए। सब सहा सब कुछ उन्होंने भगवान के चरणों में चढ़ा दिया। पर भगवान श्री कृष्ण से नहीं सहा गया और भक्त नरसी मेहता की दोहिती का के ब्याव पर मायरे भरने की ठान ली। कथा का समस्त वृतांत सुरमयी संगीत और भजनों के माध्यम से पंडित ज्वालाप्रसाद ने भक्तजनों के समक्ष रखा। जिससे भक्त मंत्रमुग्ध हो गए। साथ ही कई भक्त भजनों पर झूमते नज़र आए।

बुधवार को यह पहुंचे तारातरा

मठ के आयोजन प्रवक्ता दुर्गसिंह राजपुरोहित ने बताया कि राष्ट्रपति पुरस्कार प्राप्त योग साधक प्रवर्तक योग साधक योगी, महामंडलेश्वर रविशर्णानंद पालनपुर गुजरात, खटदर्शन राजा संध्यानाथ जी महाराज जालोर, डॉ. ध्यानाराम जी महाराज आसोतरा, परशुराम गिरी जी महाराज कनाना, अष्ट कुशल महंत मृत्युंजय पूरी महाराज समदड़ी, समाधिगिरी जी दाखा, दत्त नारायणगिरी जी महाराज पहाड़ेश्वर, उमाकांत गिरी जी महाराज महंत खंडप सहित विभिन्न मठों के साधु संत तारातरा पहुंचे। जिनका महंत प्रतापपुरी सहित उपस्थित गुरुभक्तों द्वारा भव्य स्वागत किया गया।

विभिन्न पूर्व राज परिवार सदस्यों ने किए मंदिर दर्शन 

वहीं बाड़मेर रावत त्रिभुवन सिंह, जसोल रावळ किशनसिंह, विधानसभा सचेतक राव राजेन्द्रसिंह के पुत्र भाजयुमो प्रदेश सचिव देवायुषसिंह शाहपुरा, गुड़ा राणा भवानी सिंह , विक्रमसिंह नाचना का स्वामी प्रताप पुरी महाराज एवं उनके शिष्यों द्वारा स्वागत अभिनंदन किया गया। सभी ने ब्रह्मलीन महंत मोहन पुरी महाराज के धूने के दर्शन किए। वही उपस्थित संत महात्माओं से आशीर्वाद लिया।

बाड़मेर विधायक सांचौर विधायक ने दर्शन किए

तारातरा की महान तपोभूमि पर सांचौर के विधायक सुखराम बिश्नोई और बाड़मेर विधायक मेवाराम जैन ने तपोस्थली का दर्शन किया और सन्तवर से आशीर्वाद लिया।

इस मौके पर बाड़मेर विधायक मेवाराम जैन ने कहा कि पश्चिमी राजस्थान के महान तपस्थली पर आकर वह खुद को गौरवान्वित महसूस कर रहे हैं साथ ही साथ वह हर आम और खास यह अपील करते हैं कि महान संत मोहन पुरी जी की शिक्षाएं जन जन तक पहुंचाने के लिए हर कोई अपना योगदान दें वहीं सांचौर के विधायक सुखराम विश्नोई ने कहा कि युगो युगो की बात मोहन पुरी जी महाराज जैसे संत इस धरती पर अवतरित होते हैं जिनके जाने के बाद उनकी शिक्षाओं और उनके किए गए कार्यों का प्रचार प्रसार करना हर मानव का कर्तव्य है इस मौके पर विधायकों का स्वागत एवं अभिनंदन तारातरा मठ के गादीपति प्रताप पुरी जी महाराज के द्वारा किया गया और उन्होंने जनप्रतिनिधियों को आशीर्वाद दिया

भक्ति संध्या में झूमे श्रोता

तारातरा धाम में महोत्सव के दूसरे दिन सुबह 10 बजे से 4 बजे तक नैनी बाई का मायरा पंडित जवालाप्रसाद द्वारा मधुर संगीतमयी और अर्थावणी से मायरे कथावाचन पर दर्शक झूम उठे। वहीं रात्रिकालीन एक शाम मालाणी के महादेव ‘ब्रह्मलीन महंत मोहनपुरी महाराज’ के नाम भक्ति संध्या आयोजित की गई। बुधवार शाम राजस्थान के प्रसिद्ध भजन गायक नृसिंह बाकोलिया बाड़मेर, महेशाराम एंड पार्टी जैसलमेर, फकीरा खान, खेता ने सुमधुर भजनों की प्रस्तुतियां दी। भजनों पर श्रद्धालु झूमते नजर आए। महंत प्रतापपुरी महाराज ने बताया कि नैनी बाई का मायरा कथा गुरूवार दोपहर 12 से 4 बजे तक कथा अनवरत रूप से चलेगी

पिछले 48 घँटे से चल रहा है महायज्ञ

तारातरा मठ में आयोजित प्राण प्रतिष्ठा एवं भंडारा महोत्सव में यज्ञाचार्य पंडित गोपाल लाल दवे ज्योतिषाचार्य द्वारा उपाचार्य महेश दवे के साथ इस सारे धार्मिक आयोजन को संपादित किया जा रहा है पिछले 48 घंटों से यहां पर यज्ञ और अन्य पूजा पाठ आयोजित किए जा रहे हैं जो प्राण प्रतिष्ठा महोत्सव के अंतिम दिन तक यहां पर चलेगा।

जैसलमेर के भक्तों ने भेंट की फॉर्च्यूनर गाड़ी

तारातरा मठ के महंत प्रतापपुरी महाराज को जैसलमेर के भक्त भाविकों ने मिलकर फॉर्च्यूनर वाहन तारातरा मठ को भेंट किया है। जिसे जैसलमेर के प्रतापसिंह सोलकी रामगढ़, लक्ष्मण सिंह भाटी कुंडा, कैलाश खत्री जैसलमेर, गिरधरसिंह भाटी दवाड़ा, भेरूसिंह भाटी लूणा खुर्द,मनोहर सिंह चौहान जोधा ,कमलसिंह भाटी कोहरा , हीरेन्द्र सिंह चौहान दूदवा और मनोहर सुथार झालोडा भाटियान ने मिलकर यह वाहन मठ के लिए भेंट ले आये हैं।

 

संतो का तपोभूमि तारातरा में नगाड़ा बजा, भंडारा आयोजन की शुरुआत

 

गुरूवार का कार्यक्रम

15 फरवरी को नैनी बाई रो मायरा का समापन कार्यक्रम होगा। पूरे दिन विभिन्न मठों के संत यहां पहुंचेंगे वही जनप्रतिनिधियों का आना-जाना भी लगातार जारी रहेगा। मुख्य मंच कार्यक्रम दोपहर 1:30 बजे से 6:00 बजे तक चलेगा जिसमें संतों का स्वागत महामंडलेश्वर का आशीर्वचन जनप्रतिनिधियों का स्वागत मुख्य भामाशाहों का स्वागत समारोह आयोजित होगा वही रात्रि सत्र में संत प्रवचन होगा भामाशाहों का स्वागत होगा और स्वागत बोलियाँ कार्यक्रम आयोजित किया जाएगा। कार्यक्रम के तीसरे दिन भजन संध्या जोग भारती एंड पार्टी जालोर, शिवपुरी एंड पार्टी बालोतरा, भँवर गायणा, रणजीत लौहार भजनो की प्रस्तुति देंगे।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here