ईवीएम से मतदान पर शंका होने पर मतदाता कर सकते हैं शिकायत

सूचना गलत निकली तो होगी शिकायतकर्ता मतदाता को होगी 6 माह की कैद

0
53

बाड़मेर।

ईवीएम मशीन से वोट देने के दौरान यदि किसी मतदाता को कोई संशय हो तो वह इसे चुनौती दे सकते हैं। यदि मतदाता यह दावा करता हैं कि उसने वोट किसी को दिया है और वह किसी अन्य उम्मीदवार को चला गया है। उस स्थिति में मतदाता को एक घोषणा-पत्र भरना होगा।

मतदाता की शिकायत के आधार पर जांच

जिला निर्वाचन अधिकारी शिवप्रसाद मदन नकाते ने बताया कि मतदाता की शिकायत के आधार पर जांच की जाएगी। अगर शिकायत सही पाया जाता है, तो दुबारा वोट करने दिया जाएगा, लेकिन मतदाता का दावा झूठा साबित हुआ तो उसे 6 महीने कारावास का प्रावधान भी किया गया हैं। हालांकि इस स्थिति से निपटने के लिए पहले ही तैयारी कर ली गई हैं।

मतदाताओं को पर्ची 7 सेकंड तक दिखाई देगी

जिला निर्वाचन अधिकारी शिवप्रसाद मदन नकाते ने बताया कि इस बार ईवीएम के साथ वीवीपैट मशीन से मतदाता की ओर से वोट डालने के बाद संबंधित प्रत्याशी का नाम, चुनाव चिन्ह और क्रमांक वाली पर्ची 7 सेकंड तक दिखाई देगी। यह सुविधा चुनाव आयोग ने इसलिए की है,ताकि मतदाताओं को पता चले कि उनका वोट उनके पसंद के उम्मीदवार को ही गया हैं। रिटर्निंग अधिकारी की ओर से संबंधित मतदाता से पोलिंग एजेंट और सहायक कर्मचारियों की उपस्थिति में 49 एमए के घोषणा-पत्र भरवाया जाएगा।

शिकायत झूठी निकली तो धारा 177 आईपीसी व 49 एमए के तहत होगी कार्यवाही 

उन्होंने बताया कि इसे भरने के बाद मतदाता के हस्ताक्षर लिए जाएंगे। इसके बाद वीवीपैट मशीन को चेक किया जाएगा। मशीन चेक करने पर शिकायत सही पाई जाती हैं,तो उक्त मशीन से मतदान रुकवा दिया जाएगा। इस स्थिति में अगर मतदाता की शिकायत झूठी निकली तो धारा 177 आईपीसी व 49 एमए के तहत चुनाव आयोग तत्काल प्रभाव से मामला दर्ज कराएगा और मतदाता को पुलिस के हवाले कर कार्रवाई शुरू कर दी जाएगी। इसमें 6 महीने का सश्रम कारावास होने का भी प्रावधान हैं।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here