घर के मंदिर से महिला गायब, परिजनों का दावा महिला हो गई है अंतर्ध्यान, गुमशुदगी दर्ज

0
186

बाड़मेर

आज भी किस तरीके से राजस्थान के रेगिस्तानी इलाकों में अंधविश्वास हावी है इसका एक उदाहरण आज हम आपको बताते हैं बाड़मेर जिले के गुड़ामालानी कस्बे के रतनपुरा गांव में शुक्रवार सुबह अपने घर के कमरे से एक महिला गायब हो जाती है परिजनों और आसपास के लोगों का यह दावा है कि यह महिला अंतर्ध्यान हो गई है आपने ठीक सुना इस परिवार और लोगों का कहना है कि महिला अंतर्ध्यान हो गई है अंतर्ध्यान होने के बाद उस जगह पर मंदिर में थोड़ा सा राख का ढेर और त्रिशूल मिला है यह भी बताया जा रहा है महिला के गले जो चैन पहनी हुई थी वो त्रिशूल पर है, आलम यह है कि इस घटना के बाद वहां पर अब तक हजारों लोग पहुंचकर धोक लगाते हैं और पूजा-अर्चना की जा रही है तो दूसरी तरफ बाद में पुलिस ने इस मामले को गंभीरता से लेते हुए पूरे मामले की जांच शुरू कर दी है ।

बाडमेर पश्चिमी सरहदी जिले बाडमेर के एक गांव में एक महिला भगवान की आराधना करते करते अचानक विलुप्त हो गई।।घर वालो ने इसे अंतर्ध्यान होने का दावा किया है जिस जगह से गायब हुई । वहाँ राख का ढेर मिला था। रविवार को मौके पर बड़ी तादाद में साधु संत और ग्रामीण पहुंच रहे है। आस्था का नया केंद्र बन गया है यह गांव। जिस स्थान पर महिला अंतर्ध्यान हुई उस स्थान पर धुणा रोपा गया है तथा पूजा पाठ जाती है। बाड़मेर जिले के गुड़ामालानी के रतनपुरा गाँव में 5 साल की भगवान की भक्ति के बाद लीला नाम की महिला के आज सुबह अचानक अलोप हो जाने का चोकाने वाला मामला सामने आया है परिजन व ग्रामीण इसे देवीय चमत्कार मान रहे हैं जिस किसी को लीला के अलोप होने के चमत्कार का समाचार मिल रहा है बड़ी संख्या में लोग लीला के घर पहुँच रहे हैं लिला के भाई उदाराम से हुई बातचीत में बताया कि लिला पिछले 5 साल से भगवान की भक्ति कर रही थी लोगों को कई चमत्कार भी दिए हैं उदाराम नेे बताया 15 दिन पहले लीला ने कहा था अब मैंने 5 साल की भक्ति कर ली मुझे भगवान लेने आएंगे मैं उनके साथ जाना चाहती हूं लीला एक बंद कमरे में भक्ति में दिन रात लीन रहती थी शुक्रवार सुबह करीब 4:00 बजे खड़ी होकर परिवार वालों को जगाया और कमरे में जाकर अपना ध्यान लगाकर भक्ति करने लग गई लेकिन काफी देर बाद जब देखा तो लीला अलोप हो चुकी थी कमरे में ज्योति जल रही थी ओर एक त्रिशूल व माला उस ज्योति में पाए गए जिसके अनुसार परिवार के सदस्य व ग्रामीण भी इसे एक चमत्कार मान रहे हैं इस चमत्कार को देखने के लिए दूर-दूर से ग्रामीणों के आने का तांता लगा हुआ है साधुसन्त भी इसे कल युग में इस घटना को चमत्कार मान रहे हैं ।

इस देश में अंधविश्वास का आलम यह है कि अब तक दिला के घर पर हजारों लोग माथा टिकटों के हैं और हजारों रुपए चढ़ावे के रूप में लोग यहां चढ़ा चुके हैं लोगों को ऐसा लगता है कि लीला 5 सालों से जबरदस्त तरीके से ध्यान करती थी और उसी ध्यान में वह आज लीन हो गई है ऐसा नहीं है कि आसपास के लोग आ रहे हैं ऐसे कई संत महात्मा भी आ रहे हैं जो कि खुद ही संतो की उपाधि प्राप्त कर चुके हैं वह भी इसे अंतर्ध्यान बता रहे हैं ।

जब पूरे मामले की जानकारी में पुलिस अधीक्षक राशि डोगरा को मिली तो राशि डोगरा ने इस पूरे मामले में जांच के आदेश गुडामालानी थाने को दिए, पुलिस ने उसके परिजनों से बड़ी समझाईस के बाद गुमशुदगी की रिपोर्ट देने के लिए मनाया है परिजनो ने उस रिपोर्ट में भी अंतर्ध्यान होने की बात लिखी है और यह भी लिखा है वो कई अन्य जगह भी जा सकती है अब पुलिस गुमशुदगी दर्ज कर ली है और पुलिस लीला को ढूंढने के लिए लगी गई है राशि डोगरा के अनुसार पुलिस जल्द ही इस पूरे मामले का खुलासा करेगी।

आलम यह है कि पूरे बाड़मेर जिले में इस बात की जबरदस्त तरीके से चर्चा है और जिले के कई लोग उस गांव और लीला के घर जाकर माथा टेकते नजर आ रहे हैं ऐसे में कई ऐसे सवाल है जिसको पुलिस अपनी जांच कर रही है आखिर इतने दिनों से लीला कहां गई है धरती निकल गई या आसमान निगल गया लीला के पास एक मोबाइल भी था वह कहां गया साथ ही सबसे बड़ा सवाल कि 4 दिनों से लीला के बारे में कोई भी जानकारी पुलिस को अब तक नहीं मिल पाई है जिसके चलते दिन-ब-दिन लीला के गांव और उसके आसपास के इलाकों में इस बात का अंधविश्वास बढ़ता जा रहा है अब देखने वाली बात यह होगी कि लीला को पुलिस कब सामने लेकर आती है और मामले का दूध का दूध और पानी का पानी करती है।

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here