शिखर धवन के शतक से भारत ने तीसरा वनडे जीता

0
326

विशाखापत्तनम।

शिखर धवन के नाबाद शतक (100) की बदोलत भारत ने श्रीलका को तीन दिवसीय सीरिज के तीसरे वनडे में आठ विकेट से हरा कर सीरिज भारत ने अपने नाम करते हुए इस वर्ष तीनो फॉर्मेट में 13 सीरिज अपने नाम कर रिकॉर्ड बना दिया

भारत ने 216 रनों के लक्ष्य का पीछा करते हुए 23 अोवरों में 2 विकेट पर 151 रन बना लिए हैं। शिखर धवन 60 और दिनेश कार्तिक 1 रन बनाकर क्रीज पर हैं। इससे पहले उपुुल थरंगा के 95 रनों के बावजूद श्रीलंका की पारी 44.5 अोवरों में 215 रनों पर सिमट गई।

लक्ष्य का पीछा करने उतरे भारत की शुरुआत अच्छी नहीं रही ‍और कप्तान रोहित शर्मा मात्र 7 रन बनाकर अकिला धनंजय की गेंद पर बोल्ड हो गए। अय्यर ने सचित पाथिराना की गेंद पर 1 रन लेते हुए फिफ्टी पूरी की। यह उनकी लगातार दूसरी फिफ्टी हैं, वे इस मंजिल तक 44 गेंदों में पहुंचे। इसके बाद धवन ने फिफ्टी पूरी की। अय्यर 65 रन बनाने के बाद थिसारा परेरा की गेंद पर लकमल को कैच थमा बैठे। उन्होंने धवन के साथ दूसरे विकेट के लिए 135 रनों की भागीदारी की।

उपुुल थरंगा के शानदार 95 रनों के बावजूद श्रीलंका की पारी रविवार को भारत के खिलाफ तीसरे और निर्णायक वनडे में लड़खड़ा गई। कुलदीप यादव और युजवेंद्र चहल की शानदार गेंदबाजी के सामने श्रीलंका की पारी 44.5 अोवरों में 215 रनों पर सिमट गई।

भारत ने सीरीज में पहली बार टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी करने का फैसला किया। बुमराह ने दानुुष्का गुणतिलका (13) को मिडऑन पर कप्तान रोहित शर्मा के हाथों झिलवाया। इस झटके के बावजूद थरंगा ने आक्रामक प्रदर्शन जारी रखा। उन्होंने हार्दिक पांड्‍या द्वारा डाले गए पारी के नौवें अोवर में धमाकेदार प्रदर्शन करते हुए लगातार पांच गेंदों पर चौके लगाए। वे अंतिम गेंद पर चौका लगाने में नाकाम रहे अन्यथा वे अोवर की सभी गेंदों पर चौका लगाने वाले बल्लेबाजों के समूह में शामिल हो जाते। थरंगा ने 36 गेंदों में 10 चौकों की मदद से फिफ्टी पूरी की। यह उनके वनडे करियर की 36वीं फिफ्टी हैं। समरविक्रमा जब 29 रनों पर थे तब कुलदीप यादव की गेंद पर मिडविकेट पर दिनेश कार्तिक ने उनका कैच छोड़ा।

युजवेंद्र चहल ने खतरनाक होती इस साझेदारी को सदीरा समरविक्रमा को आउट कर तोड़ा, जब वे उनकी गेंद पर डीप कवर्स पर धवन को कैच दे बैठे। समरविक्रमा ने 57 गेंदों में 42 रन बनाए और दूसरे विकेट के लिए थरंगा के साथ 121 रनों की भागीदारी की। थरंगा शतक की तरफ बढ़ रहे थे, लेकिन कुलदीप ने एक ही अोवर में मेहमान टीम को दो झटके दिए। उनकी गेंद पर धोनी ने थरंगा को स्टम्पिंग किया, यह बहुत करीबी निर्णय था और थर्ड अंपायर ने फैसला दिया। थरंगा 82 गेंदों में 12 चौकों और 3 छक्कों की मदद से 95 रन बनाकर आउट हुए। लेकिन उन्होंने इस मैच के दौरान इस कैलेंडर वर्ष में वनडे में 1000 रन पूरे किए। कुलदीप ने निरोशन डिकवेला (8) को स्लिप में श्रेयस अय्यर के हाथों झिलवाया।

अब श्रीलंका की उम्मीदें एंजेलो मैथ्यूज और थिसारा परेरा पर टिक गई थी, लेकिन ये दोनों जल्दी आउट हो गए। चहल ने शानदार गेंद पर मैथ्यूज (17) को बोल्ड किया और फिर परेरा (6) को एलबीडब्ल्यू किया। कुलदीप यादव ने 42 रनों पर 3 और चहल ने 46 रनों पर 3 विकेट लिए।

यह मैच बहुुत महत्वपूर्ण है क्योंकि दोनों टीमें सीरीज में 1-1 की बराबरी पर है। इस मैदान पर अपने शानदार रिकॉर्ड से भारत की सीरीज जीत की उम्मीदें मजबूत हो गई है।दोनों टीमें इस मैच को जीतकर इतिहास रचना चाहेगी।

भारत और श्रीलंका ने प्लेइंग इलेवन में एक-एक बदलाव किए। भारत ने बीमार वॉशिंगटन सुंदर की जगह कुलदीप यादव को शामिल किया जबकि श्रीलंका ने लाहिरू थिरिमाने की जगह सदीरा समरविक्रमा को मौका दिया।

भारत ने बनाया रिकॉर्ड

टीम इंडिया यदि यह मैच जीतने के साथ ही सीरीज पर 2-1 से कब्जा कर लिया और इसी के साथ भारत की यह इस वर्ष सभी फॉर्मेट में मिलाकर 13वीं सीरीज जीत ली । इससे पहले उसने 2007 में सभी फॉर्मेट में मिलाकर कुल 12 ट्रॉफियां अपने नाम की थी।

धर्मशाला में पहला वनडे जीतकर श्रीलंका ने सीरीज में बढ़त बनाई थी, लेकिन मोहाली में दूसरे मैच में रोहित शर्मा के रिकॉर्ड तीसरे दोहरे शतक की मदद से भारत ने बाजी मारते हुए सीरीज में बराबरी की। टीम इंडिया इसके चलते बढ़े हुए मनोबल के साथ मैदान में उतरी और इस मैदान पर अपने शानदार रिकॉर्ड को कायम रखते हुए जीत हासिल की .

LEAVE A REPLY

Please enter your comment!
Please enter your name here